Anil Babar 74 साल की उम्र में कह गए सभी को अलविदा। जानिए इनके राजनीती कार्यो के बारे में। पढ़िए पूरी ख़बर।

komal

Anil Babar :-

आपको बहुत दुःख के साथ हम सूचित कर रहे हैं की अनिल बाबर का निर्धन हो गया है। अनिल बाबर मुख़्यमंत्री एकनाथ शिंदे की पार्टी के थे तथा सूबे की खानपुर विधानसभा के विधायक थे। आपको बता दे की अनिल बाबर की उम्र 74 साल थी। इनके निर्धन को लेकर सभी लोग बहुत दुखी है। आपको बता दे की एक पार्टी अधिकारी का कहना है की अनिल बाबर को निमोनिया हो गया था। अनिल जी का इलाज कई दिनों से महारष्ट्र के सांगली जिले के एक हस्पताल में किया जा रहा था परन्तु इनकी सेहत में कोई फर्क नहीं आया जिस कारन आज 31 जनवरी 2024 को अनिल बाबर हम सभी को अलविदा कह गए।

आपकी जानकारी के लिए हम आपको बता दे की मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने अनिल बाबर के निर्धन पर काफी दुःख जताया है तथा उनका कहना है की अनिल बाबर का का अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान के साथ किया। अनिल बाबर के निर्धन को लेकर राजनीती में सभी लोग काफी दुखी है। आपको हम बता दे की आज मुंबई के मंत्रलय में कैबिनेट की बैठक होनी थी परन्तु अनिल बाबर के निर्धन की खबर आने के बाद इस बैठक को स्थगित कर दिया गया है।

Preity Zinta Birthday 2024 :- प्रीति ज़िंटा ने मनाया अपना 49वां जन्मदिन। जानिए इनके जन्मदिन के अवसर पर इनके एक्टिंग करियर के बारे में।

Anil Babar 74 साल की उम्र में कह गए सभी को अलविदा। जानिए इनके राजनीती कार्यो के बारे में। पढ़िए पूरी ख़बर।

आपकी जानकारी के लिए हम आपको बता दे की CM तथा कई और कैबिनेट मंत्री सांगली जायँगे तथा अनिल बाबर को श्रद्धांजलि देंगे। अनिल बाबर के अंतिम संस्कार में बहुत से मंत्री जाने वाले है। आपकी जानकारी के लिए हम आपको बता दे की अनिल बाबर ने अपना राजनीती जीवन की शुरुवात 19 साल की उम्र में कांग्रेस के साथ शुरू किया था। अनिल बाबर पहले सरपंच बने थे इसके बाद ये शरद पवार के साथ उनकी कांग्रेस पार्टी में शामिल हो गए थे।  आपको बता दे की अनिल कांग्रेस पार्टी में लगभग 15 साल तक रहे थे। इसके बाद इन्होने एकनाथ शिंदे की पार्टी को ज्वाइन कर लिया था।

आपकी जनकारी के लिए हम आपको बता दे की अनिल बाबर 1990 तथा 1999 सांगली से विधायक चुने गए थे। इसके बाद अनिल 2014 तथा 2019 में शिवसेना के विधायक बने थे। आपको हम ये भी बता दे की 2019 में अनिल बाबर को कैबिनेट में जगह बनाने की पूरी कोशिश की थी तथा इसके लिए उन्हें पूरी उम्मीद भी थी परन्तु अनिल बाबर को नजर अंदाज  कर दिया गया था। इस बात को लेकर अनिल बाबर काफी दुखी भी हुए थे क्युकी उन्हें पूरी उम्मीद थी। इसके बाद जब 2022 में शिवसेना स्थापित हो गयी तो अनिल बाबर शिंदे गट में शामिल हो गए थे।

Gold :- एक बार फिर से सोने और चाँदी की कीमत में आया उछाल। जानिए आज की तारीख में 24K गोल्ड की कीमत के बारे में।

आपके जानकारी के लिए हम आपको बता दे की बाबर का जन्म 7 जनवरी 1950 को महाराष्ट्र के कराड़ में हुआ था। इनका जन्म एक किसान परिवार में हुआ था। आपको बता दे की इन्होने बहुत ही कम उम्र में राजनीती में कदम रखा था आपको बता दे की अनिल बाबर 19 साल की छोटी उम्र में ही गरडी गाँव के सरपंच बन गए थे। आपको बता दे की अनिल बाबर को हमेषा से ही लोगो की सेवा करना पसंद था जिस कारन उन्होएँ राजनीती को चुना। आपको बता दे की सरपंच के पद पर बैठ कर अनिल बाबर ने बहुत से काम किये थे। इन्होने इस के बाद राजनीती में अपना सिलसिला जारी रखा। आ

आपकी जनकरी के लिए हम आपको बता दे की अनिल बाबर को शिवसेना के ताकतवर नेताओ में गिना जाता है। अपने काम को लेकर अनिल बाबर हमेषा द्रिड रहते थे। इन्होने लोगो जनता की भलाई के लिए बहुत से काम किये थे। अनिल बाबर के निर्धन को लेकर सभी बहुत दुखी है।

Anil Babar 74 साल की उम्र में कह गए सभी को अलविदा। जानिए इनके राजनीती कार्यो के बारे में। पढ़िए पूरी ख़बर।

TAGGED:
Share This Article
Leave a comment